तेल की बढ़ती कीमतों पर देश की वित्त मंत्री ने सिर्फ जताई चिंता, केंद्र व राज्य में समन्वय की बात कहकर पल्ला झाड़ा

तेल की बढ़ती कीमतों पर देश की वित्त मंत्री ने सिर्फ जताई चिंता, केंद्र व राज्य में समन्वय की बात कहकर पल्ला झाड़ा
ईंधन के दामों पर चर्चा करते समय केंद्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण - फोटो : PTI

देश. देश में लगातार पेट्रोल की कीमत बढ़ रही है, जिससे जनता परेशान है। बढ़ती कीमतों के बीच विपक्ष भी सरकार पर हमलावर है। अब वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने बढ़ती कीमतों पर बयान दिया है। ईंधन की कीमत पर उन्होंने कहा कि, यह एक गंभीर और अहम मुद्दा है। दोनों केंद्र और राज्य सरकारों को उपभोक्ताओं को उचित स्तर पर खुदरा ईंधन उपलब्ध कराने के लिए बात करनी चाहिए।

उन्होंने कहा कि, 'यह एक ऐसा मुद्दा है जिसमें कीमत में कटौती के अलावा कोई भी उत्तर जनता को संतुष्ट नहीं कर पाएगा। इसलिए वास्तविकता सामने लाने के लिए मैं जो भी कहूं, उससे लोग यही कहेंगे कि मैं उत्तर देने से बच रही हूं। इसलिए मैंने कहा कि यह एक गंभीर मुद्दा है।' सरकार का पेट्रोल की कीमत पर कोई नियंत्रण नहीं है, तेल कंपनियां कच्चे तेल का आयात करती हैं, रिफाइन करती हैं और वितरित करती हैं। इसलिए यह एक बड़ा धर्मसंकट है।

आज इतनी बढ़ी कीमत

आज सरकारी तेल कंपनियों की ओर से लगातार 12वें दिन भी पेट्रोल और डीजल की कीमतों में वृद्धि का सिलसिला जारी रहा। आज डीजल की कीमत में 37 से 39 पैसे तक की बढ़ोतरी हुई है, तो वहीं पेट्रोल की कीमत भी 38 से 39 पैसे तक बढ़ी है। दिल्ली और मुंबई में पेट्रोल की कीमत अब तक के उच्चतम स्तर पर पहुंच गई है। इन दोनों शहरों में पेट्रोल की कीमत अपने सर्वोच्च स्तर पर है। इसके साथ ही दिल्ली में पेट्रोल का दाम 90.58 रुपये जबकि डीजल का दाम 80.97 रुपये पहुंच गया है। वहीं मुंबई में पेट्रोल की कीमत 97 रुपये व डीजल की कीमत 88.06 रुपये प्रति लीटर पर  पहुंच गई है। प्रीमियम पेट्रोल, जिस पर अधिक कर लगाया जाता है, की कीमत महाराष्ट्र, मध्यप्रदेश और राजस्थान जैसे राज्यों में 100 रुपये प्रति लीटर के आंकड़े को पार कर चुकी है।