PMCH पुनर्निर्माण में 700 करोड़ से अधिक का घोटाला, पप्पू यादव ने की जांच की मांग

PMCH पुनर्निर्माण में 700 करोड़ से अधिक का घोटाला, पप्पू यादव ने की जांच की मांग

पटना. पटना मेडिकल कॉलेज और अस्पताल के पुनर्निर्माण में घोटाले का आरोप लगाते हुए जन अधिकार पार्टी (लो) के राष्ट्रीय अध्यक्ष पप्पू यादव  ने कहा कि पिछले दिनों मुख्यमंत्री  नीतीश कुमार ने जब पीएमसीएच के पुनर्निर्माण कार्य की शुरुआत की तो विज्ञापनों में इस पर होने वाले खर्च को 5540 करोड़ रुपया बताया गया. जबकि 20 सितम्बर 2019 को निकाले किए गए  टेंडर में प्राक्कलित राशि 4831.77 करोड़ रुपया बताया गया था। इससे साफ पता चलता है कि इसमें बड़े पैमाने पर घोटाला हुआ है. पप्पू यादव ने उक्त बातें मंदिरी, पटना स्थित पार्टी कार्यालय में प्रेस कांफ्रेंस को संबोधित करते हुए कही।

आगे उन्होंने कहा कि राशि किसी खास ठेकेदार को फायदा पहुँचाने के लिए बढाई गई. जब टेंडर निकाला गया था तब उदय सिंह कुमावत स्वास्थ्य विभाग के सचिव थें. वो राशि बढ़ाये जाने पर सहमत नहीं थें इस लिए उनका तबादला कर दिया गया. जनता के पैसे की बर्बादी की जा रही है। इस पूरे मामले की जांच निष्पक्ष और पारदर्शी तरीके से होनी चाहिए।

कोरोना जांच और क्वारंटाइन सेंटर में अनियमितता का आरोप लगाते हुए पप्पू यादव ने कहा कि कोरोनावायरस के समय हर पंचायत को लाखों रुपए दिए गए लेकिन इसका फायदा कभी जनता को नहीं हुआ. मास्क, सैनिटाईजर खरीदे गयें लेकिन कभी उनका वितरण नहीं हुआ। सरकारी पदाधिकारियों ने पैसे गबन किए और अब नीतीश कुमार जांच भी उन्हीं लोगों से करवा रहे हैं जिन्होंने घोटाला किया है। कोरोना टेस्ट किट खरीद के नाम पर करोड़ों रुपए का बंदरबांट किया गया. फर्जी नाम और मोबाइल नंबर दर्ज कर जांच दर्शाया गया। कोरोना जांच बहुत कम लोगों के ही किए गए।

उच्च न्यायालय के न्यायधीश की निगरानी में जांच की मांग करते हुए जाप अध्यक्ष ने कहा कि इस अनियमितता की जांच उच्च न्यायालय के न्यायधीश की निगरानी में होनी चाहिए। अगर वहीं लोग जांच करेंगे जो इसमें संलिप्त हैं तो सच्चाई कभी सामने नहीं आएगी।