भौतिकी के महान शिक्षक प्रोफेसर शंभूनाथ गुहा से विशेष साक्षात्कार

प्रोफेसर गुहा पटना के साइंस कॉलेज के प्रिंसिपल के रूप में कार्य कर चुके हैं। उनका नाम संस्थापक वाइस चांसलर के रूप में फलक पर कहीं भी नहीं लिखा है।

भौतिकी के महान शिक्षक प्रोफेसर शंभूनाथ गुहा से विशेष साक्षात्कार
प्रोफेसर शंभूनाथ गुहा

पटना. आर्यभट्ट ज्ञान विश्वविद्यालय के संस्थापक वाइस चांसलर डॉ शंभू नाथ गुहा बिहार के भौतिक शास्त्र के सुप्रसिद्ध शिक्षक के रूप में जाने जाते हैं। प्रोफेसर गुहा पटना के साइंस कॉलेज के प्रिंसिपल के रूप में कार्य कर चुके हैं। पत्रकारों से वार्तालाप के दौरान उन्होंने बताया कि उनके पटना स्थित आवास सही आर्यभट्ट ज्ञान विश्वविद्यालय की शुरुआत हुई थी। दो-तीन जगह से स्थान परिवर्तन के बाद से मीठापुर बस स्टैंड के सामने स्थापित किया गया। प्रोफेसर गुहा ने बहुत दुख के साथ यह बताया कि शिक्षा के क्षेत्र में इतना योगदान देने के बावजूद उन्हें उचित सम्मान नहीं मिला जिसके वे हकदार हैं। प्रोफेसर गुहा को ना तो बिहार सरकार और ना ही भारत सरकार के द्वारा सम्मान दिया गया, जबकि वह पद्म सम्मान के प्रबल हकदार है। प्रोफ़ेसर गुहा ने बताया कि जिस संस्थान के लिए उन्होंनें कठिन परिश्रम किया वहीं के वेबसाइट से उनका नाम तक हटा दिया गया। उनका नाम संस्थापक वाइस चांसलर के रूप में फलक पर कहीं भी नहीं लिखा है। प्रोफेसर गुहा ने ही इस संस्थान का लोगों एवं लोकगीत का कंपोजिंग भी किया है। इतना सब करने के बावजूद उनको इस का उचित सम्मान नहीं मिला। प्रोफेसर संभूनाथ गुहा जी ने नैनो टेक्नोलॉजी के क्षेत्र में भी काफी योगदान दिया है। इसमें माननीय मुख्यमंत्री नीतीश कुमार जी ने भी काफी सहयोग किया था।