कोरोना के दहशत से अब लोगों में दिलचस्पी कम दिखाई दे रही दुसरे शहर जाने में

पटना चंदन द्विवेदी

कोरोना के दहशत से अब लोगों में दिलचस्पी कम दिखाई दे रही दुसरे शहर जाने में

पटना. बिहार के लोग फिलहाल हवाई सफर में दिलचस्पी नहीं दिखा रहे। कोरोना संक्रमण के दो दिनों बाद भी विमानों की टिकटों की बुकिंग आधी से भी कम है। अधिकतर विमान पटना से आधी से भी कम संख्या में बुकिंग कर उड़ान भर रहे।

यात्री भी जरूरी काम से ही हवाई सफर के लिए आ रहे, जबकि दूसरे शहरों से विमानों में भरकर यात्रियों के आने का सिलसिला जारी है। दूसरे शहरों से यात्रियों के आने की प्रमुख वजह उनका दूसरे शहरों में कोरोना की वजह से लॉकडाउन में फंसा होना है।  

आपके अपने अखबार ‘हिन्दुस्तान’ ने जब दो दिनों के हवाई यात्रियों आंकड़े के आधार र्बुंकग न होने की वजहों की पड़ताल की तो तीन प्रमुख कारण सामने आए। पहला कारण दूसरे राज्यों में होम क्वारंटाइन का डर है। यात्रियों में इसकी सबसे ज्यादा चर्चा है कि सफर के बाद दूसरे राज्यों में कहीं उन्हें 14 दिन तक क्वारंटाइन में न भेज दिया जाए। 

विमानन कंपनी नहीं लौटा रही पैसे 
लॉकडाउन की अवधि में रद्द हुए विमानों के टिकटों के पैसे यात्रियों को नहीं लौटाए जा रहे। विमानन कपंनियां ऐसे यात्रियों को अगले हवाई सफर में किराए में एडजस्ट करने की बात कह रही हैं।

वर्क फ्रॉम होम सबसे प्रमुख वजह
कम यात्रियों की सबसे प्रमुख वजह वर्क फ्रॉम होम है। मेट्रो सिटी की अधिकतर कंपनियों ने कर्मियों को घर से काम करने की सुविधा दी है। तीसरी वजह यह है कि छुट्टियों का समय बीत गया है और कोरोना संक्रमण की वजह से पर्यटन का कहीं कोई स्कोप नहीं है। ऐसे में वे यात्री ही सफर कर रहे जिन्हें जाना बेहद जरूरी है। 

कैनोपी के पास बनेगा टेंट 
गर्मी को देखते हुए पटना एयरपोर्ट पर कैनोपी के पास सुरक्षाकर्मियों के लिए एक टेंट बनाया जाएगा। गौरतलब है कि हिन्दुस्ता ने यात्रियों और कर्मियों की समस्याएं मंगलवार को पटना लाइव में प्रमुखता से प्रकाशित की थी। हालांकि एयरपोर्ट पर यात्रियों के लिए समस्याएं कम नहीं हुई है। एयरपोर्ट के एंट्री गेट के पास कैनोपी एरिया में दो डिस्प्ले भी लगाए जा रहे हैं।